light ka avishkar kisne kiya
Light Ka avishkar Kisne Kiya

light ka avishkar kisne kiya | बिजली की खोज सर्वप्रथम कब और किस प्रकार हुई थी?

author
0 minutes, 17 seconds Read

सभी का स्वागत है हमारे इस आर्टिकल मे आज मे आपको बताने वाला हु light ka avishkar kisne kiya था आजकल के टाइम में लाइट हमारे जीवन की दैनिक जरूरत बन गयी है। इसके बिना आज जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। आज लाइट का उपयोग हर क्षेत्र में किया जा रहा है। बिजली से हम ऐसी, मोबाइल फ़ोन्स, फैन, टेलीविज़न, कंप्यूटर आदि और भी बहुत सी चीज़े चलाते है। देश के विकास के लिए बिजली का बहुत बड़ा योगदान है क्योकि जितने भी किसी देश मे बड़े कारखाने और किसी फैक्ट्री में मशीनें है वो सब बिजली से चलती हैं। हमारे भारत देश के विकास में रेलवे का बहुत बड़ा योगदान है। आज भारत में जितनी भी ट्रैन चलती है वो सभी बिजली से ही चलाई जाती हैं। आप सभी बिजली का उपयोग करते है पर क्या कभी आपने ये सोचा है कि लाइट का आविष्कार (light ka avishkar kisne kiya)? आइए जानते हैं कि light Ka Avishkar Kisne Kiya?

लाइट का अविष्कार किसने किया | light ka avishkar kisne kiya

लाइट का अविष्कार 600 वर्ष ईसा पूर्व थेल्स नामक वैज्ञानिक ने किया था। थेल्स यूनान के दार्शनिक महान भौतिक विज्ञानी थे। उन्होंने ही सबसे पहले चीड़ के पेड़ मे जो गोंद बन जाता हैं उसको रगड़ने से कपड़े या किसी भी सूखे पत्ते पक्षी का पंख अपनी ओर आकर्षित करता हैं। उसको थेल्स ने इलेक्ट्रिसिटी नाम दिया था। उसके बाद कई वैज्ञानिक बिजली की खोज में लगे हुए थे। फिर संयुक्त राज्य अमेरिका के एक वैज्ञानिक बेंजामिन फ्रैंकलिन ने परीक्षण करके लाइट उत्पन्न करने की खोज की उन्होंने लोगों को बताया कि आकाश में जो बिजली चमकती हैं उसी का रूप बिजली हैं। इसके बाद फ्रांस के एक वैज्ञानिक जार्ज लेक्लांशे ने गिला बैटरी बनाकर उसमें से बिजली उत्पन्न कि उन्होंने अमोनियम क्लोराइड का एक घोल बनाकर उसमें जस्ता और कार्बन की छड़ बनाई और अमोनियम क्लोराइड के घोल में डुबाकर बिजली उत्पन्न करके लोगों को दिखाया था।
वास्तव में बिजली का आविष्कार 1800 में एलेस्सान्डो् वोल्टा (Alessandro Volta) ने किया सबसे पहले व्यक्ति ये ही थे। जिन्होंने पहली विधुत सेल बनाई, जिससे की विधुत धारा प्राप्त की जा सकती थी। विधुत सेल के आविष्कार के क्र बाद लोगों को यह पता लग गया कि विधुत धारा से ऊष्मा, प्रकाश, रासायनिक कियाएं और चुम्बकीय प्रभाव पैदा किए जा सकते हैं। विधुत पैदा करने की दिशा में सबसे क्रांतिकारी काम 1831 में माइकल फैराडे (Michal Faraday) ने किया सबसे पहले उन्होंने यह बताया कि यदि तांबे के तार से बनी कुंडली (Coil) में एक चुम्बक को आगे-पीछे किया जाए, तो बिजली को पैदा किया जाता है। फैराडे के इस सिद्धांत को प्रयोग करके विधुत पैदा करने वाले जेनरेटरों (Generators) का विकास हुआ। सबसे पहला सफल विधुत डायनमो (Dynamo) या जेनरेटर जर्मनी में 1867 में बनाया गया था। 1858 में अमरिका में टरबाइन (Turbine) चलाकर विधुत पैदा की गई। इसके पश्चात दुनिया में बहुत से जलविधुत उत्पादन केन्द्र (Hydel Power Station) और तापविधुत उत्पादन केन्द्रों (Thermal Power Station) का विकास किया गया।
भारत में बिजली कब आई थी?
भारत में पहली बार बिजली सन 1879 में कोलकाता में आ पाई थी। भारत में ही पहली बिजली बनाने वाली फैक्ट्री भी कोलकात्ता में 1899 में लगाई गयी थी। फैक्ट्री का नाम जो था कोलकाता इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई कॉरपोरेशन । इसके बाद सन 1902 में मैसूर में जल विद्युत् केंद्र बनाया गया और फिर डीजल से बनने वाली बिजली का उत्पादन सन 1905 दिल्ली में शुरू किया गया था ।

यह लेख भी आप जरुर पढ़े: बल्ब का अबिष्कार कैसा हुआ था

बिजली कितने प्रकार की होती है?

बिजली दो प्रकार की होती है।

1. डाइरेक्ट करंट यानि द्विष्ट धारा
2. अलटरनेट करंट यानि प्रत्यावर्ती धारा

बिजली के बारे में रोचक तथ्य

आसमान से गिरने वाली बिजली 10 करोड़ वोल्ट की होती है जबकी हमारे घरों में जो करंट आता है वो सिर्फ 220 वोल्ट का होता है।
हमारे घरों में चलने वाले टीवी, वॉशिंमशिन, फ्रिज सिर्फ 5 Amp पर चलते है।
भारत में हर साल 2500-3000 लोग बिजली के गिरने से मारे जाते है।
एक सर्वे के अनुसार बिजली गिरने से मरने वालों की संख्या में 80% पुरूष और सिर्फ 20% महिलाएं होती है।
तो अब आप जान गए होंगे कि light Ka Avishkar Kisne Kiya बिजली का अविष्कार 600 ईसा वर्ष पूर्व थेल्स नाम के वैज्ञानिक ने किया था। थेल्स यूनान के दार्शनिक और महान भौतिक विज्ञानी थे। विधुत पैदा करने की दिशा में सबसे बड़ा क्रांतिकारी कार्य 1831 में माइकल फैराडे (Michal Faraday) ने किया उन्होंने सबसे पहले यह बताया कि यदि तांबे के तार से बनी कुंडली (Coil) में एक चुम्बक को आगे-पीछे किया जाए तो बिजली पैदा हो की जा सकती है।

बिजली का आविष्कार किसने किया? से सम्बंधित FAQ

बिजली का आविष्कार किसने किया था?
बिजली का आविष्कार किसी एक व्यक्ति द्वारा नहीं किया गया था, बल्कि यह प्रक्रिया कई वैज्ञानिकों और अनुसंधानकर्ताओं के सहयोग से हुई थी। हजारों वर्षों के दौरान, विभिन्न वैज्ञानिकों ने बिजली की अनुसंधान की अनेक कोशिशें की थीं।
विद्युत शक्ति का पहला उत्पन्न कैसे हुआ?
बिजली का पहला उत्पन्न एक साधू और वैज्ञानिक बेनजामिन फ्रैंकलिन द्वारा 1752 में किया गया था। उन्होंने ऊचे स्थान पर एक तार को उच्च क्षेत्रीय विद्युत क्षेत्र में ले जाकर बिजली उत्पन्न की। इसे फ्रैंकलिन का परिक्रमण कहा जाता है।
बिजली का वैज्ञानिक सिद्धांत क्या है?
बिजली एक प्रकार की ऊर्जा है जो विद्युत क्षेत्र के माध्यम से परिभाषित होती है। यह अणुओं में इलेक्ट्रॉनों के गतिविधि का परिणाम है।
विद्युत शक्ति का उपयोग कैसे होता है?
विद्युत शक्ति का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जैसे कि घरेलू उपयोग, औद्योगिक उपयोग, और उच्च विद्युत साधनों की उत्पत्ति।
विद्युत ऊर्जा की राष्ट्रीय आपूर्ति कैसे होती है?
विद्युत ऊर्जा की राष्ट्रीय आपूर्ति विभिन्न स्रोतों से होती है, जैसे कि विद्युत कारखाने, पारिस्थितिकी ऊर्जा, हाड़ ऊर्जा, और नवीनतम ऊर्जा तकनीकियों का उपयोग करके।

निष्कर्ष-

तो दोस्तों आपको आपको हमारा यह आर्टिकल light ka avishkar kisne kiya जानकारी कैसी लगी तो हमको आप कमेंट बॉक्स में बताना न भूलें और अगर आपका इस आर्टिकल से जुड़ा कोई सुझाव या सवाल है तो हमें जरूर बताएं। अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और कमेंट करें और अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करना ना भूले। जिससे की light ka avishkar kisne kiya जानकारी उनको भी मिल सके धन्यवाद

About Author

Similar Posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: